Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
सावन
सावन
★★★★★

© Srabani Nath

Others

1 Minutes   1.4K    7


Content Ranking

रे सावन 
 तुझ बिन तड़प  रहा  ये मन 
सूखी धरती उजड़े  चमन 
सूखी  नदी सूखा आसमान 
अबतो आ
 ना बन अनमन रे सावन 
 तु आये तो खिले चमन 
धरती हँसे हँसे गगन
नदी में आये नवजीवन 
अबतो आ
न बन अनमन रे सावन 
 तेरे छुने से खिला तनमन
आँखों  में प्यार दिल में दिवानापन
 सुन्दर हुआ सरल जीवन
अबतो आ
न बन अनमन.

इंतज़ार बारिश धरती

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..