Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मेरी-लाड
मेरी-लाड
★★★★★

© Rajendra Shrivastav

Children

1 Minutes   1.3K    6


Content Ranking

बिटिया! मन की बात बताऊँ
तुझे देख सब सुख पा जाऊँ।
तू जब रोयी, मैं भी  रोया-
तू मुस्काये -- मैं मुस्काऊँ।

तुम थी नन्ही  राजकुमारी 
महकी खुशियों की फुलवारी ।
करतीं आँगन में ता-थैया
फुदके- नाचे जै्से गौरेया ।।


कभी  रूठना ,कभी रिझाना 
जीभ दिखाकर कभी  चिढ़ाना ।
और कभी खुद ही शरमा कर-
माँ के आँचल में छिप जाना।

अब तुम कुछ हो गयी सयानी
बाहर की दुनियाँ कुछ जानी।
पढ़ना - लिखना , सीखा तुमने
रीति-नीति,संस्कृति पहिचानी।

हम दोनों का तुम जीवन हो
कैसे कहें -- पराया-धन हो ।
दु:ख- चिंता सब छोड़ो-छाड़ो,
सदा रहो खुश , ' मेरी-लाड़ो '।

माँ -बाप बेटी रिश्ते ळगाव भावना

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..