Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
माँ
माँ
★★★★★

© Rahul Shrivastava

Drama

2 Minutes   14.3K    9


Content Ranking

यहाँ इस शहर में जब बारिश होती है

और ओस की हर एक बूँद

जी भर धरती को भिगोती है

हवा जब एक - एक करके

सारे रंग बादलों में पिरोती है

तब तुम मुझे बहुत याद आती हो माँ

तब तुम मुझे बहुत याद आती हो


गाहे बगाहे यहाँ कभी

हल्की - हल्की बयार चलती है

और फिर कुंवारी शाम

दिन के शोर से शरमा के निकलती है

जब कोई छोटी - सी लहर

किनारे से मिलने को तरसती है

तब तुम मुझे बहुत याद आती हो माँ

तब तुम मुझे बहुत याद आती हो


सुबह - सुबह जब कहीं दूर

कोयल गुनगुनाती है

और फिर इक नन्हीं - सी कली

आँखें मींचे खिलखिलाती है

ओस जब अलसाये पत्तों को

हल्के - हल्के नहलाती है

तब तुम मुझे बहुत याद आती हो माँ

तब तुम मुझे बहुत याद आती हो


ज़िंदगी इस भाग दौड़ में

कभी - कभी ठहरती है

और भीगी पलकें लिये चुपके से

अंधेरे वन में उतरती है

जब फिर नज़र कहीं

मीठी - सी रोशनी से गुज़रती है

तब तुम मुझे बहुत याद आती हो माँ

तब तुम मुझे बहुत याद आती हो


मेरी हर एक शरारत पे मुझे डाँट के

चोरी से मुस्कुराती हो

हर एक लम्हे, हर एक पल में

मेरी साँसों में आती - जाती हो

हँसती हो कभी तुम

और मुझे हँसाती हो

तो कभी रूठ के रुलाती हो

तुम मुझे बहुत याद आती हो माँ

तब तुम मुझे बहुत याद आती हो...!



Mother Child Relationship Care

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..