Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बिंधी हुई मछली का गीत
बिंधी हुई मछली का गीत
★★★★★

© Udbhrant Sharma

Others

1 Minutes   13.6K    0


Content Ranking

 मछुआरे!
अब यह निर्मल बंसी
खींच ले!

 

बंसी
जिस पल तूने डाली थी
उस पल से
बिंधी हुई है;
एक आग-
-अँधियारे की-
निर्जल प्राणों में
रुँधी हुई है।

 

अँधियारे!
अब तो पापी पलकें
मींच ले!

 

ठस-
पत्थर-सन्नाटे के दिल में,
एक बोल
महक रहा है;
प्यास-
कर रही चिरौरियाँ, लेकिन,
यह पानी
दहक रहा है।

 

बदरा रे!
कण-कण को अमृत से
सींच दे!
मछुआरे!

बिंधी हुई मछली का गीत

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..