Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मातृ शक्ति तुम्हें नमन
मातृ शक्ति तुम्हें नमन
★★★★★

© Vivek Tariyal

Others

1 Minutes   7.7K    22


Content Ranking

वात्सल्य सरोवर सी बहती वह,
जीवन भर सब सहती वह
त्याग तपस्या की देवी वह ,
हर कुटुंब की है सेवी वह
करती है जिस साहस से, हर घाव को सहन
मातृ शक्ति तुम्हें नमन, मातृ  शक्ति तुम्हें  नमन

घर घर को जो यूँ महकाऐ,
ममता रस नित यूँ छलकाऐ
अपनों के हित जिसने अपने,
हृदय स्वप्न सब बिसराये
रखती है जिस दृढ़ता से निज हृदय पर पाहन
मातृ शक्ति तुम्हें नमन, मातृ  शक्ति तुम्हें  नमन

कभी  देव स्वरूपा कहलाती ,
कभी स्नेहपूर्वक सहलाती
ममता रस की है स्रोत वही,
सौंदर्य बोध पर इठलाती
जिसके पवित्र संसर्ग में हर पाप हो दहन
मातृ शक्ति तुम्हें नमन, मातृ  शक्ति तुम्हें  नमन

नारी तेरी महिमा अपार
तुझसे निर्मित है यह संसार
फिर आज क्यों हो रहा,
तेरी अस्मिता पर वार
समय आ गया है अब झाँसी वाला चोला पहन
मातृ शक्ति तुम्हें नमन, मातृ  शक्ति तुम्हें  नमन

माँ काली का रूप है तू
भयंकर तेरी हुंकार है
शत गजों का बल है तुझमें
सहस्रों नागों की फुँकार है
लजाता हो जिसको देख सूरज, झुकता हो यह गगन
मातृ शक्ति तुम्हें नमन, मातृ  शक्ति तुम्हें  नमन

women empowerment

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..