Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
सही है अब
सही है अब
★★★★★

© Deepak Solanki

Others

1 Minutes   1.2K    3


Content Ranking

खुदा का नाम ही काफी है अब ।
मरने का तो डर ही नही है अब ।।

ग़धे को बाप कह कर आया था ।
दूसरा कोई चारा ही नही है अब ।।

हराम का पैसा नही टिक सकता ।
फुट फुट के रो बस वही है अब ।।

स्त्री पुरुष की परछाई है मान लो ।
जिस्म की आग को सही है अब ।।

दिल की हर बात कैसे कहूँ मैं  ।
बाते भी जान ले सकती है अब ।।

क्यों इश्क़ हर दफा हो जाता है ।
टुटा हुआ दिल ही तो है अब ।।

ग़ज़ल ए इश्क़ हो गया है मुझे ।
उसके नाम की गज़ले कही है अब ।।

 

गज़ल इश्क

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..