Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
कहीं वो तुम तो नहीं....
कहीं वो तुम तो नहीं....
★★★★★

© shobhana shukla dubey 'ritu'

Others

1 Minutes   6.5K    8


Content Ranking

हर शाम की तन्हाई में कोई मुझे चुपके से सहलाता है मेरे अश्कों को कोई सीप में बंदकर के मोती बना जाता है                                               कहीं वो तुम तो नहीं,

मेरे तसव्वुर में कोई अनदेखा सा चेहरा बार-बार नज़र आता है                                             कोई मेरी साँसों को मेरी यादों को हर पल महका जाता है                                               कहीं वो तुम तो नहीं,

जो खफ़ा होती हूँ खुद से कभी कोई मुझको हौले से थाम लेता है                                       ज़िन्दगी है खुलकर जीने का नाम ये अहसास जगा जाता है                                               कहीं वो तुम तो नहीं,

मुश्किल सी राहों में जब लड़खड़ा कर चलती हूँ एक हाथ मुझे थाम लेता है                               मेरी काली अँधेरी रातों में कोई रौशनी उमीदों की कर जाता है                                               कहीं वो तुम तो नहीं,

ज़िन्दगी की कशमकश से कोई मुझे हर बार उबार लेता है                                               देकर मेरे होठों को मुस्कुराहट ग़म भी मेरे उधार लेता है                                                     कहीं वो तुम तो नहीं।

सोच अहसास

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..