Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
कश्मीर
कश्मीर
★★★★★

© Anonymous

Others

1 Minutes   1.3K    1


Content Ranking

मिल्कियत नहीं है किसी की इस ज़मी से,
और वतन के निशान वो बनाते चले गए |
हुसना जुदा हुई अपने ही हुस्न से,
और वो है की लकीरें सजाते चले गए |
झेलम से पूछो तासीर है क्या उसकी!
लाशें उसमे दफ्नाते चले गए |
कफस में रहे गए हैं ये गुलशन पुराने,
और वो हैं की मुहर लगाते चले गए |

#india #pakistan #kashmir #humanity #politics

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..