Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
गुबरैली ज़ुबान
गुबरैली ज़ुबान
★★★★★

© Rajkumar Kumbhaj

Others

1 Minutes   1.2K    5


Content Ranking

सिलता कैसे दुःख अपने

सुई-धागा तो वही शख्स ले भागा था

जिसके हाथों में चाबुक जैसा कुछ था

और जिसने मेरी आँखों में रोप दी थी

अपनी गुबरैली ज़ुबान भी ?

गुबरैली ज़ुबान

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..