Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
" एक अन्तहीन उत्सव "
" एक अन्तहीन उत्सव "
★★★★★

© Anupam Tripathi

Others

1 Minutes   13.7K    9


Content Ranking

" एक अन्तहीन उत्सव "

एक भयावह अन्तर्द्वन्द्व   आस्था और अनुभव के मध्य.

कविता ---------- 
एक भयावह अन्तर्द्वन्द्व होती है
आस्था और अनुभव के मध्य.

अनुभव ---- 
जब होता जाता है परिपक्व
तब टू--ट--ती है : आस्था 
और कविता का जन्म
किसी अशुभ लक्षण - सा
संपूर्ण वातावरण को
असंतोष की ज्वाला में 
-- झुलसा देता है.

पहिले फुसफुसाती है
: कविता
फिर .... मिमियाती और
चिल्ला पड़ती है;अचानक 
तब; पाती है कि --------
स्तब्ध हैं ; सब
अपने बचाव में रत्
हतप्रभ...... अस्त- व्यस्त

अट्टहास लगाती है
: कविता
और भूल जाती है कि;
जिन आस्थाओं के शव
सम्मुख पड़े हैं 
उन्हीं के प्रेत --------------
---------- चारों ओर खड़े हैं .

ग़र्भवती विधवा की तरह
समाज ----- दुहाई देता है
चरित्रहीन-सी सफ़ाई देता है
और फिर;
कविता को आत्मसात् कर
उपेक्षा के अंधकूप में 
.............. ढकेल देता है.

गौण हो जाता है ;यहाँ कवि
किसी लांछन की तरह
: कविता
चस्पाँ कर दी जाती है
---- उसके समूचे वज़ूद पर.

उसी कविता की
प्रसव-- वेदना से स्लथ्
उपेक्षित् और युध्दरत्
कवि;
फिर किसी सृजन में 
जुट जाता है.

फूटतीं हैं -- नई कोंपलें
वहाँ ----------------- वहाँ 
जहाँ ---------------- जहाँ 
कवि
टू....ट
जाता
है.
*******------------********

 

ANUPAM.TRIPATHI.POETRY.HINDI KAVITA

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..