Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मकान
मकान
★★★★★

© Ankit Singh

Drama

1 Minutes   1.4K    13


Content Ranking

कुछ दिनों से

राख बिखरे पड़े हैं

मेरे ज़मीर पे

कमबख़्त कोई आता नहीं

अब उसे उठाने !

मकान मेरा

अब श्मशान - सा लगने लगा है...।


House Ashes Sadness

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..