परेश पवार 'शिव'

Romance


परेश पवार 'शिव'

Romance


सलाम

सलाम

1 min 182 1 min 182

दवात बनॉं लूँ दिल को मैं

और अरमानों से ये क़लाम लिख़ूँ

सोचता हूँ कागज़ पर पैग़ाम लिख़ूँ

जो लिख़ूँ वो बस तेरे ही नाम लिख़ूँ।


भूले से भी ग़र तेरा ज़िक़्र जो हों

धड़कन दिवानी हो उठती है

दिल को भी तो कहीं चैन नहीं

सोचूँ के दिल को थाम लिख़ूँ।


लिख़ने की मैं जो सोचूँ भी

तुझे क्या लिख़ूँ तू ही बतला दे

मंदिर की मूरत कहूँ तुझे या,

मैख़ानें का कोई जाम लिख़ूँ।


मुझे लोकलाज की फिक़्र नहीं

मैं जो लिख़ूँ अब सरेआम लिख़ूँ

मेरा ख़ुदा भी मुझे कुछ हैरान दिखे

के मैं इबादत में तुझे सलाम लिख़ूँ !


Rate this content
Originality
Flow
Language
Cover Design