Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
चाँद – धरा !
चाँद – धरा !
★★★★★

© Arun Pradeep

Others

1 Minutes   13.0K    5


Content Ranking



अगर बता देतीं पहले – से

बिखेरोगी तुम श्वेत प्रकाश ,

तब ये बेचारा चंदा

ले लेता इक अवकाश !

अब दोनों जब आ ही गऐ

तो क्यूँ न ऐसा कर लें

आ जाऊँ मैं पास तुम्हारे

युगल- रात ही कर लें !

 

वैसे भी अब मानसून में

बादल छाने लगते हैं ,

रिमझिम रिमझिम नन्हीं बूँदें

ये बरसाने लगते हैं !


 

मैं आ गया हूँ पास तुम्हारे

लोग जान न पाऐंगे ,

सोचेंगे बादल ने घेरा

घर में जा सो जाऐंगे !

 

बस तुम रुकना कुछ पल को

मैं घर जाकर आता हूँ ,

माँ को ख़बर किये देता हूँ

छाता भी ले आता हूँ !!


 

 

MOON earth

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..