Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
सो रहे हैं वोह, जो किस्मत के भरोसे हैं |
सो रहे हैं वोह, जो किस्मत के भरोसे हैं |
★★★★★

© Vishu Mishra

Others

1 Minutes   1.4K    10


Content Ranking

सो रहे हैं वो, जो किस्मत के भरोसे हैं |
जग गए हैं वो, जिन्हें कुछ करना है |

सुबह का सूरज चढ़ता है,
और दिन भर पिघलता है |
उसके संघर्ष में काव्य है,
वो कर्म प्रज्वलित करता है |

मैं भी उठता हूँ रोज़ सुबह,
उस सूरज से कुछ अग्नि लेकर |
मेरा भी नाम तुम गिन लेना,
उस सांसारिक काव्य की रचना में |

ये पक्षी , पवन, पशु, नर-नारी ,
सब चलते हैं रोज़ सुबह |
एक नए इतिहास क़ि रचना में ,
तब-ही इतिहास बदलता है |

सो रहे हैं वो, जो किस्मत के भरोसे हैं |
जग गए हैं वो, जिन्हें कुछ करना है |

उस मानव पथ पर चलना है |
जहाँ चलना गिरना फिसलना है |
और उठ के हर पल चलना है,
उन्ही दो पंक्ति को रचना है |

सो रहे हैं वो, जो किस्मत के भरोसे हैं |
जग गए है वो, जिन्हें कुछ करना है ||

#poem #inspiration #poetry #life #karma #destiny #hardwork #sunrise #struggle

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..