Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
आत्मावलोकन
आत्मावलोकन
★★★★★

© Anupam Tripathi

Others

1 Minutes   6.9K    5


Content Ranking

 

स्वयं को खोजने का  एक प्रयास 

मैं; इक झरना
निर्झर झरता
दिशाहीन----- उद्दाम भाव से
बहता रहता
पथ ............... तय करता.

मैंने कब जाना !
-------------- संयम क्या है ?
जंगल क्या और
-------------- उपवन क्या है?

कूल--किनारे चट्टानें थीं
बीहड़ थे -------- वीराने थे
और ; भोली इनकी मुस्कानें
थीं.

मुझे पता है ---अल्हड़ता थी
सौंदर्य का अतिरेक भी होगा
निरुद्देश्य थी ; मगर यात्रा
रहा निरंकुश वेग भी होगा.

छुआ आपने अन्तर्मन् को
समझा तब जीवनदर्शन को
लगा कोई " पारस पत्थर "
कर रहा स्पर्श ................
..........मैं ! " लौह अयस्क ".
 

आत्मा अनुपम त्रिपाठी

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..