Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बहरों की बस्ती
बहरों की बस्ती
★★★★★

© Kavi Vijay Kumar Vidrohi

Inspirational Others

2 Minutes   13.5K    5


Content Ranking

जान चुका तुम शब्दों को , अंगार नहीं लिखने दोगे ! 
सत्ता की मनमानी का , प्रतिकार नहीं लिखने दोगे ! 
जनमानस के दुर्दिन के , अम्बार नहीं लिखने दोगे ! 
हो फूलों की बरसात चाहते , खार नहीं लिखने दोगे ! 
भूख ,गरीबी पे होता , व्यापार नहीं लिखने दोगे ! 
इस कातर होती पीढ़ी की , हुंकार नहीं लिखने दोगे ! 
संविधान का जर्जर तन मैं अंधों को दिखलाता हूँ । 
बहरों की बस्ती में पीड़ा लोकतंत्र की गाता हूँ ।............................ १ 

भारत माँ के भावों का शृंगार, नहीं लिखने दोगे ! 
राधे,निर्मल का पूजा दरबार , नहीं लिखने दोगे ! 
मुल्क में होता नारी अत्याचार , नहीं लिखने दोगे ! 
महँगाई का होता मूकप्रहार , नहीं लिखने दोगे ! 
जब भी कलम उठाऊँगा हर बार , नहीं लिखने दोगे ! 
है पता मुझे गद्दारों को गद्दार , नहीं लिखने दोगे ! 
संविधान का जर्जर तन मैं , अंधों को दिखलाता हूँ । 
बहरों की बस्ती में पीड़ा लोकतंत्र की गाता हूँ ।............................२ 

बोलो मेरी कविताऐं हैं बेकार, कहो तो ना लिख्खूँ ! 
सच्चाई के आगे हो लाचार, कहो तो ना लिख्खूँ ! 
दूषित होता पूरा धर्मप्रचार, कहो तो ना लिख्खूँ ! 
पल-पल पीता खूँ को भ्रष्टाचार, कहो तो ना लिख्खूँ ! 
देश में होता काला-कारोबार, कहो तो ना लिख्खूँ ! 
शब्दों में संरक्षित ये यलगार, कहो तो ना लिख्खूँ ! 
संविधान का जर्जर तन मैं अंधों को दिखलाता हूँ । 
बहरों की बस्ती में पीड़ा लोकतंत्र की गाता हूँ ।............................३ 

                                                                                            

india constitution people vidroh kavi

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..