Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
जमाना आज का
जमाना आज का
★★★★★

© Raman Sharma

Others

1 Minutes   1.1K    6


Content Ranking

अजीब सा है ये ज़माना  ।
अजीब सी है ये दुनिया ।।
आदमी है आदमी का बैरी ।
वाह ख़ुदा ये है तेरी दुनिया ।।
गुनाहगारों को मिलती है रिहाई ।
बेक़सूरों को मिलती है सज़ा ।।
बेईमानों को मिलते हैं साथी ।
ईमानदारों को मिलती है सज़ा ।।
आम आदमी को मिलती है गरीबी ।
रिश्तेदारों को मिलती हैं तरक्कियाँ ।।
गरीबों को मिलती है रूसवाई ।
अमीरों को मिलती हैं ख़ुशियाँ ।।
कहीं लूटी जा रही इज्ज़त हमारी ।
कुछ कर रहे धंधा इंसानियत का ।।
ना कर बंदे ऐसा काम कोई ।

अजीब सा है ये ज़माना  ।
अजीब सी है ये दुनिया ।।
आदमी है आदमी का बैरी ।
वाह ख़ुदा ये है तेरी दुनिया ।।
गुनाहगारों को मिलती है रिहाई ।
बेक़सूरों को मिलती है सज़ा ।।
बेईमानों को मिलते हैं साथी ।
ईमानदारों को मिलती है सज़ा ।।
आम आदमी को मिलती है गरीबी ।
रिश्तेदारों को मिलती हैं तरक्कियाँ ।।
गरीबों को मिलती है रुसवाई ।
अमीरों को मिलती हैं ख़ुशियाँ ।।
कहीं लूटी जा रही इज्जत हमारी ।
कुछ कर रहे धंधा इंसानियत का ।।
ना कर बंदे ऐसा काम कोई ।
जिससे बदनाम हो नाम हमारा ।।

 

 

 

DUNIYA AJEEB INSANIYAT BHRASHTACHAAR

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..