Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मंज़िल
मंज़िल
★★★★★

© Sanjay Raghunath Sonawane

Drama Inspirational

1 Minutes   6.8K    6


Content Ranking

मंज़िल को हासिल करना है

मुसीबतों के काँटो पर

चलना सीखो !


सुख पाना है तो

दुःख के गर्म लोहे पर चलना है

काँटे भी होते है फूल

प्रकृति सारी तुम्हारी रहेगी

दिन - रात मेहनत करो

मंज़िल आसान हो जाएगी !


बड़े - बड़े पहाड़ भी

नम्रता से झुकेंगे

सागर की लहरे

सयंम और शांत होंगे

जब तुम कठिनता से

सफल हो पाओगे

सुख - दुःख का अनुभव करोगे

दुःख से सुख में

आनंद मिलता है !


इस जीवन में तुझे ही

सबकुछ करना है

दुनिया का अनुभव खुद लेना है

तुझमे सत्य, शील, होना जरूरी है

संयम, नम्रता से

भगवान के हृदय में स्थान है !


काम करते रहो

मदद माँगते रहो

इन्सान तुम्हारे साथ है !


मंज़िल को अगर पाना है तो

प्यार करना सीखो

अपनी वाणी शुद्ध रखकर

सारा विश्व जोड़ना सीखो

मानव भाईचारा देना सीखो !


पानी जैसे निर्मल बनो

हवा जैसे मन शुद्ध रखो

पंछी जैसे आनंदी बनो

सूरज, वर्षा जैसे परोपकारी बनो !

Path Life Motivation

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..