Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
 अधूरी मुलाक़ात
अधूरी मुलाक़ात
★★★★★

© Prakash Yadav Nirbhik

Others

1 Minutes   13.3K    6


Content Ranking

तिरछी नज़रें पूरी रात सोने न दिया

जागता रहा वो लम्हात सोने न दिया

 

तुम्हें भूल जाऊँ या रखूँ याद सदा

दिल में रही जो बात सोने न दिया

 

ख़्वाहिश थी सफर साथ चलने की

अधूरी अपनी मुलाक़ात सोने न दिया

 

कह दूँ दिल की हर एक बात तुम्हें

न कहने की हालात ने सोने न दिया

 

हर सीप को मयस्सर नहीं स्वाति बूँद

इन्हीं सवालात ने सोने न दिया

 

दिल्ली दूर नहीं तुमसे मिलने की                         

उमड़ते ये जज़्बात ने सोने न दिया

 

तुम्हीं हो मेरी ख़यालों की मलिका 

मन बसे ये ख़यालात सोने न दिया

 

यों तो रूबरू न हो सका अब तलक

मोहब्बत की सौग़ात ने सोने न दिया

 

कहते सब शायर दिल फेंक दीवाना है

लगा दिल में आघात सोने न दिया

 

साफ़ दिल का क़द्र कहाँ होता है यहाँ

दुनिया की यही करामात सोने न दिया

 

क्यों किया ज़िकर किसी से “निर्भीक”

आँसुओं की ये बारात सोने न दिया

 

GAJAL

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..