Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
आवारा कुत्ते
आवारा कुत्ते
★★★★★

© Udbhrant Sharma

Others

3 Minutes   20.3K    1


Content Ranking

आवारा कुत्ते

घूम रहे हैं सड़क पर

इधर-उधर।

कोई नहीं है

उनकी देख़भाल को।

एक मादा

अपनी पूँछ हिलाते हुऐ

आती एक पिल्ले के पास

अभी कुछ ही दिनों पहले

जो आया इस दुनिया में।

पिल्ले को पता नहीं

कैसी है यह दुनिया

उसके लिऐ समूची दुनिया है

उसकी माँ

और उसके थनों से

उतरता दूध

और उसके

आधा दर्जन

हमउम्र भाई और बहन।

वह बार-बार जाता है

अपनी माँ के पास,

उसके पैरों से लिपटता है,

नन्ही-नन्ही

मुँदी-मुँदी आँखों से

माँ के थनों से जा चिपटता है

और पाता है ख़ुद को

अपने आधा-दर्जन

हमउम्र

भाई-बहनों के साथ

गुत्थमगुत्था होते!

उसे नहीं पता

कि अभी

कुछ ही दिनों बाद

उसे इस क्रूर

भयानक दुनिया के बीच

अकेला और

निहत्था छोड़

उसकी माँ हो जाऐगी निश्चिन्त

उसे होगा भरोसा

कि महीने-दो महीने में ही

उसका लाल

हो जाऐगा इतना समझदार

कि ऐसी दुनिया के

दाँव-पेंंचों को भी लेगा जान,

इसी के बीच

अपने रहने की

तलाश लेगा जगह,

जुगत भिड़ा लेगा

पेट भरने की और

आदमी रूपी

अजाने दुश्मन से बचने

उसे डराने के लिऐ भौंकने

और वक़्त पड़ने पर

काटने के लिऐ उसे

आ जाऐगा इस्तेमाल करना

अपने दाँतों का!

इतना ही नहीं

जो उतने ही समय में

विकसित कर लेगा

वह अचूक अंतर्दृष्टि,

जो अनगिनती

सभ्य मनुष्यों के बीच

किसी वास्तविक मनुष्य की

आँखों के सहारे

उसके हृदय में उतरेगी;

और वहाँ अवस्थित

अमूर्त भाव की पृथ्वी की

वानस्पतिक गन्ध से

कस्तूरी हिरण की तरह;

आबद्ध हो;

उसे बिना किसी भय के

पूँछ हिलाते हुऐ

उसके पैरों का स्पर्श करने

और वहाँ लोट-पोट होकर

अपनी स्वामिभक्ति दिखाने को

कर देगी विवश!

मगर ऐसा सम्भव होगा

हज़ारों में एक बार!

फिर भी

माँ तो बेबस है।

उसे अपने बच्चे को

सिखाना ही होगा यह सब,

क्यों कि वह जानती है

कि कुत्ताजात है

बच्चे का पिता!

जिसे नहीं होगी चिन्ता

कि उसका बच्चा

कहाँ है?

कैसा है?

आया है दुनिया में तो

पेट कैसे भरेगा?

उसने तो

बच्चे की माँ को भी

हवस का शिकार बनाने के बाद

पलभर को देखा नहीं

कभी चिन्ता नहीं की

कि आख़िर उसकी भी है

आकांक्षा कोई,

कि आख़िर

उसका भी है कोई मन,

कि आख़िर उसे भी

सुरक्षा की दरकार

आवारा कुत्तोें से!

वह तो उसके साथ

क्षणिक सुख भोग

फिर से कहीं गन्दगी में मारने मुँह

चला गया!

इसीलिए बेबस माँ

और क्या करे

कि हाल-हाल जनमे

आधा दर्जन बच्चों को समझाऐ

कितनी कठिन, क्रूर,

अमानवीय है यह दुनिया!

और आदमी से

आठ गुना तेज़ चलती

उसकी ज़िन्दगी को

ठीक -सजयँग से पूर्ण करने के लिऐ

उन्हें आख़िर कैसी-कैसी

जुगतें भिड़ानी होंगी!

माँ को सब पता है,

उसने देखी समझी और

भोगी है यह दुनिया!

पिल्ला अभी

नहीं जानता कुछ,

किन्तु जान जाऐगा जल्दी ही

फिलवक़्त कूँ.. .कूँ करते हुऐ

देखता है

अपनी माँ के थनों को;

क्योंकि आज, अभी तो

उसकी माँ के थन ही हैं

उसकी समूची दुनिया!

आवारा कुत्ते

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..