Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

Akanksha Gupta (Vedantika)

Abstract Drama


3  

Akanksha Gupta (Vedantika)

Abstract Drama


विकल्प

विकल्प

2 mins 228 2 mins 228

आज सुहासिनी की छोटी बहू ने निशा ने उसके मुंह पर टका सा जवाब दे दिया- “देखिए मम्मी जी, मैंने प्रशांत से पहले ही कहा था कि मैं आप लोगों के साथ एक छत के नीचे नहीं रह सकती। मधु दीदी का सम्मान इस घर में मुझसे ज्यादा है जबकि मैं उनसे हर तरह से ज्यादा ही क़ाबिल हूँ। अब मैं और बर्दाश्त नही कर सकती। अच्छा यही होगा कि आप हमें दूसरे घर में शिफ्ट करने की परमिशन दे दे। इससे सभी की प्रॉब्लम सॉल्व हो जाएगी। इतना कुछ कहकर निशा वहाँ से चली गई और सुहासिनी जी ठगी सी उसे जाते हुए देखती रह गई।

उस रात सुहासिनी के गले से एक निवाला नीचे नहीं उतरा। वह भूखी ही अपने कमरे में आकर लिट गई। आज उसे अपनी सास की एक बात याद हो आई- “बहु अगर आज तुम्हें हमारी बातें इतनी ही बुरी लग रही है तो आने वाले वक्त में तो ज़माना बदल जाएगा। तब तो लड़कियाँ एक गिलास पानी देने से पहले सौ ताने सुनाएगी। याद रखो बहू, मेरे तो भगवान ने एक ही बेटा दिया है लेकिन तुम्हारे पास तो दो-दो बेटे है। तुम्हारे पास भले ही अपनी अच्छी संतान के साथ रहने का विकल्प हो सकता है लेकिन नई पीढ़ी के साथ रहने के लिए तुम्हारे पास चुप्पी के अलावा कोई विकल्प नहीं रहेगा।”

आज सुहासिनी के जीवन पर यह बात पूरी तरह से लागू हो रही थी। वो तो बस अपने घर में सभी लोगों को खुश देखना चाहती थी और इसलिए वो तो बस अपनी बहुओं को घर के तौर तरीके समझाने की कोशिश कर रही थी जैसे कभी उसके सास ससुर किया करते थे लेकिन तब उनके पास कोई विकल्प नहीं छोड़ा गया और न आज उसके पास कोई विकल्प था।


Rate this content
Log in

More hindi story from Akanksha Gupta (Vedantika)

Similar hindi story from Abstract