कोट्स New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए जोनर के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : others

फर्स्ट नाईट एक कहानी है प्रेम में सच्चे समर्पण की और उसकी पवित्रता की ऊंचाइयों की read more

2     25.7K    27    3791

एक भूत की असली read more

17     21.9K    16    2723

कन्या-भूण का विचार भी बना रहे माता-पिता को समर्पित एक सदृश्य रचना (रचना में चित्र के read more

3     21.6K    25    3533

अवतार सिंह ‘पाश’ की एक कविता की पंक्ति है . ‘मैं इन्सान हूँ. बहुत कुछ जोड़ -जोड़ कर read more

11     21.5K    15    3539

चोट
© Subhash Neerav

Others Inspirational +1

अब लड़का अधमुंदी आँखों से उसे निहार रहा था। चेहरे पर पड़ती सीधी धूप से लड़के का read more

11     21.5K    20    3531

समाज का read more

3     21.5K    24    473

मुझे अपने सवालों के जवाब नहीं मिल रहे थे। अपने लिए ही नहीं तो दूसरों के सवालों के read more

13     21.4K    19    3223

15     21.4K    24    3534

वोलंटरी रिटायरमेंट के बाद खन्ना जी अधूरी रह गई बचपन की अपनी आकांक्षाओं को नए सिरे read more

6     21.4K    12    4691

* हमेशा मुस्कुराते रहो खुश रहो read more

1     21.4K    15    4688

10     21.3K    17    4066

तो खिले read more

1     21.2K    18    4681

उस अँधेरे सन्नाटे में गूँजती हुई चीख दूर सिवान में जाकर विलीन होने लगी, जहाँ read more

23     21.2K    17    4067

इस सिसकती जिंदगी को जिंदगी कैसे कहूँजो करी तुमने थी मेरी बन्दगी कैसे read more

1     21.2K    18    4680

‘‘मोहब्बत और उससे। अपनी इतनी अच्छी पत्नी....मासूम बीवी का नहीं हुआ....वो मेरा क्या read more

10     21.2K    20    2722

आखें गड़ाकर देखती रहूँ आसमान कि टूटेगा कोई तारा अभी और मैं झट से आँख read more

1     21.2K    19    4378

  उसे अपने आप पर बहुत शर्मिंदगी होने लगी। चुपचाप अपनी सीट पर आकर बैठ गया और शीशा read more

18     21.2K    15    4069

हमे नही लड़ाओ जाती के नाम पे,       ना फसाओ झूठे वादों के जाल में       बहुत दयनीय read more

4     21.2K    19    4060

हिंदी साहित्य में अंग्रेजी के प्रयोग के विरोध में एक रचना प्रस्तुत है read more

1     21.1K    1    4693

आख़िर धर्म से तो उनकी विवाहिता हूँ। वे धर्म नहीं निभा पाये यह बात दीगर है। कुमार read more

24     21.1K    13    3226

उन दिनों लोग रिटायर होने के करीब पहुँचने पर प्रोफेसर बना करते थे। बहुत-से तो बन ही read more

71     21.1K    17    3224

तभी एक चुलबुली लहर ने दोनों के पैर भिगो दिऐ और लौटकर समंदर के सीने में समा गई। मीरा read more

19     21.1K    20    3537

नदी के दो किनारों से बहते यूँ तो आ गए पास read more

1     21.0K    22    4374

सांवली की बड़ी-बड़ी आँखें आश्चर्य से और बड़ी हो पूरे कमरे का मुआयना कर रहीं थीं। एक read more

8     21.0K    23    3536

अब तुम चली गयी हो, उस गुड़हल के मोह को प्रेम में तब्दील करके ! अब गुड़हल फर्श के नीचे read more

1     21.0K    17    4372

शादी का मतलब बंधन नहीं साथ होता read more

12     21.0K    17    2990

लहरों की read more

78     21.0K    15    4068

23 अप्रैल 1995। लखीमपुर खीरी का वाई.डी. कालेज। मैं शाम को परीक्षा कक्ष में बैठा हुआ read more

44     20.9K    14    4070

किसी भी चीज के प्रति तत्काल आकर्षित होना और फिर उससे ऊब जाना प्रकाश की विशेषता थी। read more

20     20.9K    10    4071

रोज़मर्रा में कभी कभी ऐसी घटनायें घट जाती है जो आपको सोचने पर मज़बूर कर देती है . read more

13     20.9K    8    5013