कोट्स New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए जोनर के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : others

समाज का read more

3     21.5K    24    473

आधी रात के करीब जब सभी गहरी नींद में सो रहे थे तभी कौटिल्य ने शिष्य को उठाया और read more

5     399    14    202

एक रात मैंने पापा से पूछा, “पापा ये आम आदमी क्या होता read more

12     13.8K    38    1386

लेखिका की समझ में ही नहीं आ रहा था कि उसकी रचना जिसे वह आत्मा से लिखती है ज्यादा read more

2     14.2K    33    1578

पश्चाताप की read more

6     14.6K    29    1819

समाज में फैले हुए अंधविश्वास पर आधारित एक read more

3     14.3K    37    1388

आज के समाज का आईना ये read more

4     14.9K    38    1387

आयना दिखाने वाली read more

5     14.5K    26    1581

अंधविश्वास को बड़ी ख़ूबसूरती से निशाना बनाती, प्रख्यात लेखक खुशवंत सिंह की अंग्रेज़ी read more

10     15.1K    28    1015

ममता
© Saras Darbari

Others Tragedy

इंस्पेक्टर भी बच्चे का बवाल नहीं पालना चाहता था, इसलिए उसने ज़रूरी लिखा पढ़ी के बाद read more

3     302    12    1407

स्कूल जाते समय एक नाग की वजह से लोकेश की साइकिल का संतुलन बिगड़ा और वो गहरी खाई में read more

10     270    6    749

रेल की टिकट नहीं मिली तो बस में सफ़र करना पड़ा, मेरी सीट के बगल में एक मोटा थुल थुल read more

10     412    8    417

मैं सदियों से उसका राज़ अपने सीने में छुपाने के लिए ख़ुद को दाद देता read more

13     361    24    275

क्या हमें अपनी बेटियों को वे सपने दिखने का हक़ है जो शायद शादी के बाद कभी पूरे न read more

3     129    6    876

तनिष्का का अपने कुत्ते के प्रति नफरत प्यार में कैसे परिवर्तित हुई उसकी रोचक read more

6     115    6    603

पत्नी काे कठपुतली समझकर ना नचाओ... उसके भी सपने हाेते है-छाेटे छाेटे ही सही, जिसे वह read more

3     253    36    211

आंखों से आँसू रुकने का नाम नही ले read more

3     88    4    608

"नहीं मांजी, डरपोक नहीं बनेगा ये रोने से बल्कि इसे समझ आएगा कि दर्द होता है तभी कोई read more

1     328    18    338

लड़का है तो क्या हुआ, है तो हाड़ माँस का शरीर ही, जिसमें एक नाज़ुक, कोमल हृदय भी है। read more

2     225    33    214

वह ठेला नहीं था, उस ठेले के हर मर्तबान में, हर शीशी में, हर थैली में, उनके घर का read more

3     336    32    215

‘कोई बात नहीं। यह तो तुम्हारा फर्ज था‘, और वह चल दिया। उसके चलने पर उन दोंनों ने read more

15     300    4    885

मैंने उसे कहा," अरे, तुम को यहाँ नहीं होना चाहिए था,तुम्हारी परफेक्ट जगह तो किसी read more

2     384    9    339

" तस्वीर बढ़िया बनी है पर आपने इस तस्वीर में मेरे बाल ज्यादा बना दिये हैं जबकि मेरे read more

3     307    30    330

"मेरी छोड़ तु अपनी जीवनसाथी की तस्वीर तो दिखा!” उसने तस्वीर दिखाई! जिसे देख मेरी read more

5     259    30    480

लेखक : धीराविट पी. नात्थागार्न ; अनुवाद : आ. चारुमति read more

9     385    39    323

लेखक: धीराविट पी. नात्थागार्न ; अनुवाद : आ. चारुमति read more

11     222    19    337

हम सभी लोग इतना सहम गए कि सारी दिवाली का मजा किरकिरा हो गया । और आज भी मैं अनार read more

2     67    3    885

वर्षों से धधकता ज्वालामुखी आज अचानक फूट पड़ा । फायर का आदेश होते ही एक जोरदार धमाका read more

9     31    1    423

ओम की बात सुनकर कामिनी को समझ में नहीं आ रहा था कि हँसे या रोये...। दुख तो उसे इस read more

10     32    1    759

तभी निशा को अहम की सासें सुनाई पड़ती हैं और वो अंधेरे में अहम को देखने की कोशिश करती read more

6     2    0    1045