कोट्स New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए जोनर के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : others

खैर कुछ दिनों बाद वो दिन भी आया जब हमें प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखना थे। जैसे कि read more

6     310    2    1481

एक एस्किमो कहानी अनुवाद : आ. चारुमति read more

4     457    8    2038

जगदीश
© Pranali Kadam

Children Stories Others

हळूहळू मग गावातली लोकं पण जमा झाली होती. त्यांना झालेली घटना समजते. गावातली लोक सगळे read more

7     236    48    666

'लेकिन घर की आर्थिक स्थिति को समझते हुए उन्हें अपने फैसले बदलने पड़े | उन दिनों read more

4     16.2K    581    9

बचपन में बच्चों में अच्छी आदतें डालने के लिए माँ बाप को नये नये तरीके सोचने पड़ते हैं read more

4     16.0K    563    16

'अपाहिज बनी हुई एक महिला अपनी तकलीफ के लिये परिवार के ऑर लोगो को परेशान नहीं करना read more

5     8.7K    557    58

डाक्टर साहिबा ने अस्थाई उपचार के लिए थोड़ी सी दवाइयाँ दे दी, लेकिन स्थायी उपचार के read more

3     8.2K    555    59

बच्चों के बचपन की read more

2     8.5K    542    62

स्कूल जाते समय एक नाग की वजह से लोकेश की साइकिल का संतुलन बिगड़ा और वो गहरी खाई में read more

10     146    5    429

'भोला के लिये गुरूजी उसके भगवान थे और उनकी हर आज्ञा पत्थर की लकीर थी | वह एक read more

4     15.8K    572    10

मैं सदियों से उसका राज़ अपने सीने में छुपाने के लिए ख़ुद को दाद देता read more

13     281    22    235

उन दिनों, यानि आज से करीब ६० साल पहले, गणेश चतुर्थी के पर्व को, लोक भाषा में, लोग read more

2     6.4K    392    270

दफ़्तर के बाहर, कौओं की तेज काँव-काँव सुनकर कुछ लोग बाहर आए। मुझे देखकर उनको read more

9     19.3K    526    276

लाड़की
© Noorussaba Shayan

Crime Inspirational +1

'जिसे अपने कपड़ों , किताबों का ध्यान नहीं होता था वो अब मेरी दवाइयों और चाय का read more

4     7.6K    59    749

सर, मुझे दिल्ली में ही रहना है। मैं एक सप्ताह में ज्वाइन करने के लिए तैयार हूँ। और read more

4     15.5K    403    29

लेखक : इवान बूनिन अनुवाद : आ. चारुमति read more

8     320    56    314

समाज का read more

3     21.3K    23    322

रेल की टिकट नहीं मिली तो बस में सफ़र करना पड़ा, मेरी सीट के बगल में एक मोटा थुल थुल read more

10     399    7    341

लेखक -अलेक्सान्द्र कुप्रिन अनुवाद - आ. चारुमति read more

23     472    49    352

पापड़ी
© Vikas Bhanti

Others Inspirational

कहानी सत्य घटना पर आधारित है read more

4     312    52    393

ये परम वीर चक्र इस बात का प्रतीक है कि आज भी देश जुड़ा है एक प्यार के बन्धन से अपनी read more

4     14.9K    36    1250

इन्सान के पास जो होता है चाहे कितना भी क्यो ना हो फिर भी वो उससे संतुष्ट नहीं रह read more

8     261    49    470

और हवा खामोश हो read more

20     16.6K    383    476

'क्या तुम्हें मालूम है कि जहाज कैसे चलता है ? हमने कहा, जहाज के पीछे एक पंखा होता read more

4     8.4K    547    61

मिल read more

2     14.0K    17    1762

क्या हम महिलाओं का जीवन भी इसी फूली हुई रोटी के ही समान नहीं है? हम महिलाएं भी तो read more

5     9.8K    51    661

This story is a translation of a Russian story, the original author is Konstantin read more

8     563    36    717

मैं प्रथम श्रेणी डिस्टिंगशन से पास तो हो गयी पर कभी सास की बीमारी और फिर बेटी की वजह read more

6     525    16    738

माँ के आँखों में इक अजीब खुशी झलक रही थी ये सब बताते हुए मैने कहाँ 'अच्छा ये बात read more

4     264    9    1292

मैं निरूत्तर हो गई और उनके द्वारा खोजे लड़के से विवाह के लिए हाँ कह दी read more

4     591    12    740