Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

Archana Tiwary

Others


2  

Archana Tiwary

Others


दीवाली मां जैसी

दीवाली मां जैसी

2 mins 68 2 mins 68

छोटी थी नासमझ थी पर जैसे ही होश संभाला दीवाली से कई दिनों पहले से ही घर में मां को साफ सफाई करते देखती। घर में रंगाई पुताई का काम भी ऐसे करवाई जाती कि दीवाली के एक हफ्ते पहले खत्म हो जाए। मैं सोचती रोज ही तो घर की सफाई होती है तो फिर ये दीवाली पर ये विशेष सफाई क्यों? मां घर के हर कोने कोने के साथ आलमीरा, खिड़की, दरवाजे, पंखे की सफाई बड़ी ही कुशलता से करती और साथ में हम भाई बहनों से भी करवाती। मैंने तो गुस्से में यहां तक कह दिया कि कौन से विशेष लोग आनेवाले हैं और आए भी तो क्या वो हमारी आलमीरा को खोल कर देखने वाले हैं ?मां कहती ये साफ सफाई हम दूसरों के लिए नही अपने लिए करते हैं।

तब बाजार से मिठाइयां ज्यादा न आती थी। मां को तो घर की मिठाइयां पसंद थी। तरह तरह की मिठाई नमकीन बनाती। सब काम बड़े ही सुनियोजित तरीके से समय पर खत्म करने की अद्भुत क्षमता थी उनमें। उनकी कही कई बातें तब पल्ले नहीं पड़ती थी। वक्त गुजरता गया शादी के बाद ससुराल में आकर मां की तरह ही सासू मां को भी दीवाली की विशेष सफाई करते देखा। उनके साथ मैं भी काम में उनका हाथ बटाती थी। यहां तो गुस्सा भी नहीं कर सकती थी। पति के साथ जब अलग अलग शहरों में नौकरी के लिए रहना पड़ा तब दीवाली आनेवाली होती तो मैं भी मां की तरह विशेष सफाई में लग जाती। कब और कैसे ये हुआ इसकी तो मुझे भनक भी न लगी। घर में मिठाइयां भी बनाने लगी। पति और बेटा कहता _"छोड़ दो न बाजार से मिठाइयां ले आऊंगा"।

अब कैसे उन्हें समझाऊं यही तो वो समय है जब मैं बचपन के उन पलों को फिर से जीती हूं। मां जैसी बन जाती हूं या बनने की कोशिश करती हूं। अब उनकी कही बातें समझने लगी हूं। हां, ये दीवाली त्योहार ही ऐसा हैं जो यादों की गलियारे की सैर करा फिर उसी रोमांच से भर देती हैं। ये साफ सफाई मिठाइयां, तोहफे एक अनमोल अनुभूति हैं जिसमें समय के साथ साथ बदलाव दिखने लगे हैं पर ये हम बड़ों की जिम्मेदारी भी तो हैं अपनी परंपरा अपने रीति रिवाज को एक पीढ़ी से अगली पीढ़ी तक ले जाने की। 


Rate this content
Log in