Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

Ira Johri

Others


2  

Ira Johri

Others


अदरक तुलसी वाली देसी चाय

अदरक तुलसी वाली देसी चाय

2 mins 74 2 mins 74

    तबियत कुछ नासाज़ थी। बिस्तर से उठने का मन नही कर रहा था। ऐसे में हमारी तबियत खराब होने के कारण आज पूरा घर मिल कर चाय बना रहा था और दूर बिस्तर पर लिहाफ में घुसी मैं सब कुछ देख रही थी। चूल्हे पर चढ़े चाय के पानी के खौलने के साथ हमारे विचारो का उबाल भी तेज़ी पर था। गैस धीमी कर पानी का खौलना कुछ कम किया गया और ठंडी आह भर कर मैने विचारों का। तभी चाय में अदरक के सुगन्धित पर चरपरे स्वाद की तरह इनकी बाते दिमाग मे दौड़ने लगीं। इतने में प्यारे से सबके दुलारे देवर जी ने आ कर तुलसी की पत्ती चाय के पानी में डाल कर बता दिया कि अच्छे स्वास्थ्य के लिये थोड़ा हँसना हँसाना भी जरूरी है और यह काम देवर ही कर सकता है।  बेटे ने उबलते पानी में प्यारी सी स्वाभाविक मिठास वाला गाढ़ा दूध मिला कर विचारों में प्यार का रंग घोल दिया। चूल्हे की आँच फिर से तेज कर दी गयी मेरे भी विचारों में फिर से उबाल आने लगा।   तभी देखा कि छोटी ननदिया ने आकर दूध मिले पानी में चाय की पत्ती डाल कर अपना रंग घोल कर चाय के स्वाद में अपनी महत्ता जता दी। संयुक्त परिवार में पलते मीठे रिश्तों की तरह देसी स्वाद की बढ़िया खुशबू वाली चाय तैयार थी। प्याले में चाय डालने के तैयारी थी।     बिटिया ने प्यारी सी मीठी मुस्कान के साथ एक चम्मच चीनी डालने के लिये जो हाथ बढ़ाया तभी बहू ने शुगरफ्री आगे कर दी। मैंने प्यार से बिटिया को गले लगाते हुये कहा कि जीवन भर खूब चीनी खाई अब तुझको ससुराल भेजने के बाद मुझे अपने अच्छे स्वास्थ्य के लिये चीनी कम कर के शुगरफ्री का साथ देना होगा। और मैं मुस्कुराते हुये अदरक तुलसी के स्वाद वाली गाढ़े दूध की शुगरफ्री वाली चाय ले कर बहू ,बेटी ,देवर ,नन्द के साथ पतिदेव के हाथों बनी चाय की चुस्कियाँ लेने लगी।



Rate this content
Log in