कोट्स New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए भाषा के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : hindi

अब उसके सब्र का बाँध टूट रहा read more

1     0    0   

समझ नहीं आ रहा कितने दिन की ज़िंदगी read more

2     0    0   

3     0    0   

बाकी जिंदगी का सफर जारी है देखते है कौन मिलता है कौन साथ छोड़ता read more

8     0    0   

ताली मंदिर में घंटों की आवाज आवाज से अद्भुत ध्वनि निकल रही read more

1     0    0    3299

ताली और शंखनाद से राष्ट्र के सेवकों का अभिवादन करने के लिये खड़ा हो read more

1     0    0    4874

खुद भूखे रह द्वार पर आए भिक्षुक को खिलाने की प्रथा read more

3     30    1   

मुझे 'इश्क और समाज' ने कहीं का नहीं read more

2     4    0    2790

लेकिन मेरा सुनना किसी ने नहीं है सबको अपनी मनमानी read more

2     1    1   

वो ही तो है डॉक्टर सदा औरों हेतु जिया read more

2     1    0    914

काश, हम उन कारणों पर ध्यान दें जो हिन्दू राष्ट्रों को कम कर रहे हैं read more

2     0    0    4874

कोई जान बूझकर ऐसा 'मानव बम' होने वाला काम करता read more

4     0    0   

लाओ बेटा, तुम्हारा बैग मुझे दो, तुम माँ जी को आराम से read more

2     0    0    6426

एक ही बात, हाय कितनी निर्दयी माँ होगी जो उसे इस तरह से छोड़ read more

2     0    0   

धीरे धीरे स्वभाव क्रोधी हुआ फिर थोड़ा हिंसक अब तो अर्चना को भी चिंता होने read more

8     0    0    4874

जिसकी बदौलत वह जिसे दूर से निहारता रहता था आज उसकी बाँहों मे पड़ी read more

5     12    0    1550

मन ही मन उस ने सभी इंप्लॉय के प्रति सम्मान जाहिर read more

1     0    0   

दिन पर दिन बढते प्रदूषण के कारण ये सब हो रहा है read more

4     18    1    1549

दिन पर दिन बढते प्रदूषण के कारण ये सब हो रहा है read more

2     0    0    3299

जीवन का रंगमंच आज हम से यही मांग करता read more

3     0    0    1996

सहानुभूति उजागर हो और धरती से जुड़े रहने की सत्बुद्धी हो read more

2     215    2    2857

क्योंकि ज़िन्दगी कब कड़ा रुख़ दिखाएगी पता नहीं, ख़्याल रखें अपना और अपनों read more

2     0    0    3556

इतना कह कर उस औरत ने दो तमाचे फिर मार read more

7     33    1   

इस तरह लॉक डाउन का छठा दिन भी समाप्त हो गया लेकिन कहानी अभी अगले भाग में जारी read more

4     40    1    1549

" अभागे रामदीन " का दाहसंस्कार किया read more

2     1    1    4257

सच इस कोरोना ने सामाजिक दूरियाँ बुरी तरह फैला दी है। एकाएक हम सभी असामाजिक हो गए read more

4     2    0    1551

पर वक्त की बात देखिए आज वही पुरूष लोकडाउन में हैं और छटपटा रहे read more

2     0    0    2217

सोने जा रही मगर नींद नहीं आती।सारी रात जगी रहती हूँ। आज तो यार जैसे भी हो सो ही read more

8     7    3    1544

सोनी बन गया देश का राजा सदा सुखी थे देश की प्रजा read more

1     0    0   

दिन कैसे बीत गया पता ही नहीं चला read more

1     21    1    5158