Read On the Go with our Latest e-Books. Click here
Read On the Go with our Latest e-Books. Click here

Bhavna Thaker

Romance


4  

Bhavna Thaker

Romance


तुम बिन सावन हमसफ़र

तुम बिन सावन हमसफ़र

1 min 369 1 min 369

कहाँ भाती है कोई शै मुझे जहाँ तुम्हारी परछाई न हो,

कैसे काटूँ सावन भीतर बिरहन के हूक सी उठती है...

 

रिमझिम फुहार दिल पर तीर सी लगती है,

तेरे बिना साजन सावन की बहार सूनी लगती है...


करते थे नर्तन बाँहों में बाँहें डाले पहली बारिश के आमद पर,

आज छत का हर कोना बेज़ार लगता है...

 

घटाटोप घन की गड़गड़ाहट पर सकुचाती हूँ कहो कौन सी आगोश में छुपूँ जाकर,

तड़ीत के गरजने पर डर का जब बवंडर उठता है...


नहीं भाता सावन का झूला कौन झूलाए आँखों में आँखें डाले प्यार से धकेलते,

तुम्हारी हथेलियों की उष्मा झूले की डोर को रुलाती है...


देखो न खिली है जूही उस मंडवे की ड़ली-ड़ली,

ओख में भरकर कलियाँ जूही की कभी बरसातें थे तुम मेरे उपर...


आज भी मेरे बालों की लटें सराबोर महकती है,

ये सावन है या मौसम तुम्हारी यादों का एक टीश मुझे नखशिख जलाती है...


तन पर पड़ी फुहार तन की तपिश तो बुझाए अतृप्त मन की प्यास हमसफ़र

तुम बिन कौन बुझाए सावन की सूनी रातों में मन में अगन जब उठती है... 



Rate this content
Log in

More hindi poem from Bhavna Thaker

Similar hindi poem from Romance