Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Nishi Singh

Others


2  

Nishi Singh

Others


तितली

तितली

1 min 140 1 min 140

तितली रानी, तितली रानी

तुम हो सबकी नानी

पकड़ते-पकड़ते हम थक जाते

तुम तो करती मनमानी

आसमान में उड़ती, चलती

तुम तो पंख फैलाए

तुमको देख बच्चे का मन

बार-बार ललचाए

रात को तुम छिप जाती

सुबह को आ जाती

फूलों का रस चूस-चूस कर

बच्चों को दौड़ाती

बच्चों के भी पर होते

तो साथ–साथ उड़ जाते

और हवा में बातें करते

तुमको पकड़ कर लाते



Rate this content
Log in