We welcome you to write a short hostel story and win prizes of up to Rs 41,000. Click here!
We welcome you to write a short hostel story and win prizes of up to Rs 41,000. Click here!

Anup Shah

Inspirational


4.7  

Anup Shah

Inspirational


सरपरस्त

सरपरस्त

1 min 260 1 min 260

सरपरस्त यूँ भी न था कोई

सरपरस्त अब भी न है,

दयानतदारी थी खुद से,

दयानतदारी से सीखता रहा।


माँ से बोली सीखी बाबा से चलना सीखा,

देखना मुझ पर छोड़ दिया। 

जीने का ढंग और सोचने का सलीका

दुनिया ने सीखा दिया।

अपनी ही तारीफ़, जो किया करते ते थे,

उनसे सीखा खुदको बेचना।


पर जिसने हुनर तराशा मेरा,

उस जुलाहे का मैं आज भी शुक्रगुज़ार हूँ के,

उसने सिखाई मुझे बुनाई।

तागों से करता था, मौसिकी बुनाई की

और बनाता था एक बेशक़ीमती कपड़ा।


मैंने भी उसे देख कर सीख लिया होना बुनाई का,

और अब मैं एक क़ातिब हूँ।

लफ़्ज़ों की बुनाई करता हूँ।

ये सारे मुर्शिद हैं मेरे, ताउम्र इनका शागिर्द रहूँगा,

सरपरस्त फिर भी अपना,

मैं खुद ही रहूँगा।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Anup Shah

Similar hindi poem from Inspirational