Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Sudha Adesh


4.8  

Sudha Adesh


सखी आ गया सुखद सलोना सावन

सखी आ गया सुखद सलोना सावन

1 min 347 1 min 347

पूरब दिशा की ओर से 

पुरबिया पवन का 

हसीन झोंका आकर,

गुनगुना गया कानों में

सखी आ गया

सुखद सलोना सावन।


पश्चिम दिशा की ओर से 

श्वेत-श्याम मतवाले

मेघों ने आकर,

मेघ मल्हार सुनाकर

दीपित कर अवनि को 

दे गये संदेशा

सखी आ गया 

सुखद सलोना सावन।


मखमली बूंदे पावस की 

बिछड़ कर वारिद से 

मिलकर धरा से,

दे गई सुगंध 

सौंधी-सौंधी सी

सखी आ गया

सुखद सलोना सावन।


भाई-बहन के 

पावन प्रेम का प्रतीक

कच्चे रेशम के धागों का

लेकर त्यौहार

सखी आ गया 

सुखद सलोना सावन।


सावन सोमवार को 

नीलकंठ, त्रिपुरारी, महादेव

को अर्पित कर हल्दी, चंदन,

पूजा अर्चना करती नारियां

मांग रही हैं वरदान

अखण्ड सौभाग्य का

अपरिमित प्यार का ,

सखी आ गया

हरियाला मस्ताना सावन ।

सोलह श्रृंगार कर




हरियाली तीज पर

सावन की रिमझिम बूंदों के संग

प्यार के हिंडोले में

उड़ान भरती अप्सराएं धरा की,

छेड़ रही हैं सुरलहरियाँ

सखी आ गया 

सुखद सलोना सावन।


Rate this content
Log in