Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Priyanka Singh

Others


5.0  

Priyanka Singh

Others


शौक लिखने का

शौक लिखने का

1 min 375 1 min 375

लिखने का कहाँ शौक था

हवा में उड़ते-फिरते थे

दुनिया की कहाँ फ़िक्र थी

अपनी धुन मे जीते थे

दिन रात की खबर कहाँ

बस यूँ ही तारे गिनते थे

चाँद देख मुसकाते थे

किस्मत बदलना चाहते थे

बहते समय और पानी को

मुट्ठी मे पकड़ना चाहते थे


लेकिन वक्त ने करवट मारी है

हर सपना अब टूटा है

सब कुछ हाथो से फिसला है

हकीकत सामने आई है

बस मेहनत ही सच्चाई है

अब दिमाग ठिकाने आया है

और दर्द पन्नों पे उतरा है

बस एक समय ही अपना है

तभी तो आज

लिखने का शौक उमड़ा है।।



Rate this content
Log in