Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here
Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here

Asha Jakar

Others


3  

Asha Jakar

Others


सावन का मौसम.गज़ब ढा रहा

सावन का मौसम.गज़ब ढा रहा

1 min 14 1 min 14


धरती सजने लगी बदरा घिरने लगे

अब सावन का मौसम गज़ब ढा रहा


बरखा होने लगी कण कण भिगोने लगी

रिमझिम का मौसम सुहाने लगा

पेड़ हरे हो गए फूलों से लदने लगे

हरियाली से बागवाँ चहकने लगा.

फूल खिलने लगे खुशबू देने लगे

अहा बहारों का मौसम गजब आ रहा


झूले सजने लगे, बालाएँ झूलन लगी

मधुर गीतों का गुंजन होने लगा

मौसम ठंडा हुआ तन- मन हर्षित हुआ

मन - मयूर झूमने लगा

हाथ मेहंदी रचे, पैर पायल सजे

अब झंकार का मौसम गजब ढा रहा


फूल मन के खिले, ईर्ष्या नफरत टले

प्रेम - संगीत बजने लगा

राखी पर्व आने लगा, बहनें सजने लगी

भाइयों के राखी बंधने लगी

उपहार थाली में सजे,पावन नेह सजे

देखो नज़ारों का मौसम गज़ब ढा रहा।।



Rate this content
Log in