Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Tanu Shree

Abstract


3.4  

Tanu Shree

Abstract


रूहे - ए - ग़ज़ल

रूहे - ए - ग़ज़ल

1 min 119 1 min 119

क्या बयाँ करू ख़ुद को जब शायर ने बयाँ कर डाला है ।

क्या सितम करूँ तुझ पर जब इश्क़ का राग रचा डाला है।

इश्क़ मोहब्बत रास ना आया मुझे

लेकिन तूने मेरे ईमान का कतल-ऐ- आमकर डाला है ।

क्या बया करू खुद को जब शायर ने खुद को महबूब बना डाला है।

बेरंग से थे मेरे अल्फाज़ तूने मेरे अल्फाज़ को रंगीन कर डाला है ।

क्या बया करूँ खुद को तूने रूह- ए - ग़ज़ल को महफ़िल बना डाला है।

  


Rate this content
Log in

More hindi poem from Tanu Shree

Similar hindi poem from Abstract