Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Rajit ram Ranjan

Romance


2  

Rajit ram Ranjan

Romance


मैं मर नहीं जाऊंगा

मैं मर नहीं जाऊंगा

1 min 278 1 min 278

मेरी वफ़ा का 

ऐसा सिला मिलेगा

मुझे मालूम नहीं था !


इस तरह वह 

मुँह मोड़ लेगी 

यक़ीन नहीं था !


दिल तोड़ जाना 

उसका यूँ छोड़ जाना

लगता हैं उसे 

मैं जी नहीं पाउँगा !


वो तड़पेगी रात-दिन 

मेरे बिना 

मैं मर नहीं जाऊंगा !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Rajit ram Ranjan

Similar hindi poem from Romance