Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Budding Star

Others


2  

Budding Star

Others


माँ

माँ

1 min 105 1 min 105

मैं कभी कभी सोचती हूं ,

क्यों जब जब मैं भूखी थी

तुम अपनी भूख भूल गई ?

क्यों जब जब मैं रोती थी

तुम अपनी खुशी भूल गई ?

अरे माँ,

मैं तो तुम्हें ढंग से धन्यवाद न कह सकी

पर ना जाने तुमने कितनी बार क्षमा मांग ली ।


~तुम्हारी ऋणी



Rate this content
Log in

More hindi poem from Budding Star