Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

Anju Singh

Inspirational


4  

Anju Singh

Inspirational


कीमती लम्हें

कीमती लम्हें

1 min 209 1 min 209

लम्हा दर लम्हा वक्त

गुजरता चला जाता है

यह एक खुशबू की तरह

बिखरता चला जाता है

गुजरा हुआ हर लम्हा 

बहुत याद आता है


इस लम्हें का क्या है 

अभी है अभी नहीं

जाने कब यह 

हाथों से निकल जाएगा

इसका भी कोई लम्हा नहीं


लम्हों को कोई ना पहचान सका

और ना कोई समझ सका

चाहे जितने भी प्रयत्न करो

लम्हों को कोई न थाम सका


हर लम्हा बहुत खास होता है

गुजर कर ही इतिहास होता है

जब यह लम्हा गुजर जाता

तब उस पल का एहसास होता है


वक्त का वह लम्हा

जब अपने साथ रहता है

उस समय उसका 

कोई महत्व नहीं समझता

गुजर कर वह लम्हा खास लगता 


चलते चलते हर लम्हा  

कहीं दूर अनंत तक जाता है

सुख दुख जीवन मृत्यु 

समय का यही चक्र है

सबको यही समझाता है


जो लम्हा बीत जाता है

वह वापस नहीं आता है

लम्हें बीत जाने पर ही

हमें समझ में आता है

हर लम्हा कीमती होता है

 इंसान समझ नहीं पाता है


कुछ करने के लिए

समय तुम मत गवाओं

तेरा हर लम्हा कीमती है

व्यर्थ मत गवाओं


वह समय वह लम्हा

बहुत कीमती होता है

खरीद नहीं सकता इसे कोई 

यह कहां बिकता है

यह लम्हा हर किसी को

बराबर बराबर मिलता है


इसलिए समय के हर लम्हें को

व्यर्थ ना जाने दो

कब गुजर जाएगा ये लम्हा

इसलिए खुद जियो और जीने दो



Rate this content
Log in

More hindi poem from Anju Singh

Similar hindi poem from Inspirational