Revolutionize India's governance. Click now to secure 'Factory Resets of Governance Rules'—a blueprint for a fair and prosperous future.
Revolutionize India's governance. Click now to secure 'Factory Resets of Governance Rules'—a blueprint for a fair and prosperous future.

Ajay Amitabh Suman

Classics

2  

Ajay Amitabh Suman

Classics

खा जाओ इसको तल के

खा जाओ इसको तल के

1 min
282


शैतानियों के बल पे,दिखाओ बच्चों चल के,

ये देश जो हमारा, खा जाओ इसको तल के।


किताब की जो पाठे तुझको पढ़ाई जाती,

जीवन में सारी बातें कुछ काम ही ना आती।


गिरोगे हर कदम तुम सीखोगे सच जो कहना,

मक्कारी सोना चांदी और झूठ ही है गहना।


जो भी रहा है सीधा जीता है गल ही गल के,

चापलूस ही चले हैं फैशन हैं आजकल के।


इस राह जो चलोगे छा जाओगे तू फल के,

ये देश जो हमारा, खा जाओ इसको तल के।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Classics