Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here
Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here

J P Raghuwanshi

Inspirational


4  

J P Raghuwanshi

Inspirational


🌻🌼🌺"होली"🌺🌼🌻

🌻🌼🌺"होली"🌺🌼🌻

1 min 456 1 min 456

होली के रंग नये,

मनभावन, फागुन आयों रे।


जैसे ही फागुन महीना आवें,

मौसम बदले, मन हरषावें।

वासंती रंग नये,

मनभावन,फागुन आयो रे।

होली-----------


कान्हा के संग खेले होली।

राधा,रूकमन संग सहेली।

रंग गुलाब नये,

मनभावन, फागुन आयों रे।

होली----------


अब तो ले लई हैं पिचकारी,

कान्हा ने भर सखियों पै मारी।

सबके हैं भाग्य जगे,

मनभावन, फागुन आयो रे।

होली----------


देखो वृन्दावन की होली,

कान्हा कर रहें है वरजोरी।

नर-नारी देखे खड़े,

मनभावन, फागुन आयो रे।

होली---------


Rate this content
Log in

More hindi poem from J P Raghuwanshi

Similar hindi poem from Inspirational