Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

GOPAL RAM DANSENA

Inspirational


4  

GOPAL RAM DANSENA

Inspirational


गुरू

गुरू

1 min 151 1 min 151

गुरू के चरणों में ही सफ़लता का द्वार है I

हे गुरू तेरे श्रीचरणों में प्रणाम बारंबार है. I


निर्मल करता मन को सदा रखे निष्पाप I

आज गुरू ज्ञान का चारों ओर आलाप I


कहीं चांद कभी सूरज कहीं गुरू आकाश I

नर को सद् मार्ग दे, गुरु करे सफल प्रयास


सद्बुद्धि मन भरे,मन रखे न कभी क्षोभ I

परमार्थ पर पग धरे, रंच नहीं मन लोभ I


जिसके चरण रज से ज्ञानी होते सुजान I

मन अंतर्मन शांत रख करते जग कल्यान I


Rate this content
Log in

More hindi poem from GOPAL RAM DANSENA

Similar hindi poem from Inspirational