Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

Nand Lal Mani Tripathi

Abstract


4  

Nand Lal Mani Tripathi

Abstract


बरसात की मार

बरसात की मार

1 min 196 1 min 196

जेठ की ज्वाला तपती धरती

प्यासी धरती बेहाल इंसान।।

कुछ हो राहत आशा आसमान

हल्की फुहार भी बहारों की

बहार सुकून के पल जीवन संचार।।

आया मानसून अरमंनो की झूम

गांव किसान के मन मे जागी आश

ईश्वर का करते धन्यवाद।।

फुहार से झमा झम बरसात

क्षुद्र नदी भर गई उतराई औकात

पे आई पागल हुई नदी टूटते विश्वाश।।

जल ही जीवन जीवन के लिये

बना जंजाल धरती पर जहां तहां

मिटने लगी हरियाली की खुशहाली

संकट में पड़े प्राण।।

पागल हुई नदी का जल प्रवाह

बह गई झोपड़ी उजडा आशियाना

सवाल जाए तो जाए कहाँ खोजते ठिकाना।।

किसी तरह मिला जीने का बहाना

ऊंचे बंधे पर बस गया ठौर ठिकाना

मुश्किल हुआ रोटी पकाना।।

नदियां झील झरने तालाब 

जीवन की रेखा जीवन ही

लगता धोखा पागल हुई नदी

जैसे प्रीतम का प्यार कभी

जिंदगी की सच्चाई फरेब फसाना।।

सुबह से होती शाम बरसात

की आफत कहर भागते इधर

उधर जाने कैसे गुजरती जिंदगी पल प्रहर।।

बरखा बाहारों की दिल की

गली के मोहब्बत के अरमान

बरखा रानी दिलवर का दिल

में रहने का राज।।

बारिस का मौसम आरजू

इंतजार हुश्न इश्क की दस्तक दीदार ।।

वारिस से पागल हुई नदी का

कहर टुटते रिश्ते छूटते प्यार के

घरौंदों याद पुकार।।



Rate this content
Log in

More hindi poem from Nand Lal Mani Tripathi

Similar hindi poem from Abstract