बरगद की छांव

बरगद की छांव

1 min 345 1 min 345

बरगद की छांव

परिंदों का आशियाना

‌ ‌‌राहगीरों का आश्रयस्थल

नादान हैं वे बच्चे

‌जो ना जाने महत्ता

बरगद हम

मातपिता की


पारिवारिक दे विस्तार

‌बरगद बन मातपिता

वे है जडे़ हमारी

हम तो हैं जटाएं


उर्जित होती शक्तियां

बरगद सदृश्य मातपिता

संबल है वे घर का

प्रफुल्लित करें दे छांव


बरगद बन बना दे

घर को वे गुरूकुल

सीख सदा ही उनकी

करती है परिपक्व हमें


‌वेगवान हो तूफान

दहाड़ती रहे मुश्किलें

मचलती रहे आंधियां

समेटते वे भुजाओं में


मार्गदर्शक रहे सर्वदा

शुभ चिंतक हर कदम

दूरदर्शिता सदा ही उनकी

रक्षित करती कदम कदम


इंसा प्रवृति है विचित्र

जब तक मिले खुशियां

जाने ना कौन सूत्रधार

वटवृक्ष मातपिता को


आज पहुंचा रहे वे

उनको ही वृद्धाश्रमों में

पनपे ही जिनकी छांव में

विष डाल रहे जड़ों में


जीवन जिनसे चहका

सुवासित रहे हर पल

मधुसिक्त रहे सदा ही

हो रहे उनसे ही जुदा


जो बरगद से मातपिता

कहलाते थे चारों धाम

उनको ही बनाया मोक्षधाम

मानवता बदली दानवता में


स्वार्थ कपट छलघाती

कर्तव्यों को दे तिलांजली

उन्हीं से हो रहे विमुख

ओढ़ कर खामोशियां


स्मृतिकुंठ है मातपिता

जब ना रहेगी छांव बरगद की

उनकी वो पर्याय भरी थपकी

ढूंढते रहेगें परिंदे बन आशियाना


तब यादों में कैद तस्वीर उनकी

देती। रहेगी एक सुकून हमें

क्योंकि वे तो थे कल्पवृक्ष

अपरिभाषित हैं

आभासित है, अतुलनीय है।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Rati Choubey

Similar hindi poem from Abstract