Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Kumar Vikash

Drama


4.9  

Kumar Vikash

Drama


भावना

भावना

1 min 142 1 min 142

भावना बिन इन्सान इन्सान नहीं

भावना बिन संबंधों की बहार नहीं !


भावना ही सुख का कारण है

भावना ही दुख का कारण है !


भावना से ही भगवान है

भावना से ही संसार है !


इन्सान बदल रहा है

संसार बदल रहा है !


भावना विहीन होकर

सारा ये जहान बदल रहा है !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Kumar Vikash

Similar hindi poem from Drama