कोट्स New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए भाषा के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : hindi

मुझे बचाके रखो क्यूंकि, मैं अपने आप पे एक धर्म read more

2     0    0   

अब दुनिया से लड़ सकती हूँ क्योंकि मेरी मोहब्बत मेरे साथ read more

2     0    0   

फिर भी जी रहे हम क्यों ? किस लिये ? नहीं पता क्या खोया क्या read more

1     0    0   

छू लूँ खुले आसमाँ को पा लूँ मन की चाह read more

1     0    0   

और आज भी रात भर जागा करती है माँ कभी बदलती थोड़ी है कवर दिया हुआ read more

1     0    0   

नचे नटराज डमरू हाथ भूतेश करें तांडवझटकाएँ खुले read more

1     0    0   

हाँ ! सदियों तक भारत माँ के, वीरों में तुम्हारा नाम read more

1     1    0   

दो राष्ट्रों के मध्य की है यही सियासत व read more

1     0    0   

साँसें जब तक साथी है, जान जब तक बाकी read more

1     0    0   

जीवन की बगिया में यूं ही मौसम बदलते रहेंगे पतझड़ और बहार के दौर यूं ही चलते read more

1     0    0   

सब होता है पर वो सुबह शाम नहीं read more

1     0    0   

नमस्कार करों तुम नमस्कार करों तुम मात-पिता को नमस्कार read more

1     0    0   

करता उस अमूल्य प्रणय को अपने हृदय में read more

1     0    0   

चोट करने से पहले अपने बिम्ब को जरा ढक read more

1     0    0   

युग है हम जिसका अंत होके भी अंत न read more

1     0    0   

जब कुदरत इन कहानियों का किरदार चुनते समय हमारे नाम पर मोहर लगा देती read more

1     0    0   

सब बुरा, फिर सब ख्याल बाहर नंगे ही घुमते read more

1     0    0   

मुझको ये बतला दो कोई ये जीवन ऐसा क्यूँ होता read more

1     0    0   

वो नन्ही सी जान की आँखों में थे सपने read more

1     2    0   

कोई आनिवार्य कार्य में लगे हुए हैं हम तो आपको विडिओ कॉल करते read more

1     0    0   

एक क्षण में सम्पूर्ण ब्रह्मांड को अपनी प्रेयसी के आगे डाल देने की चाहत रखता read more

1     0    0   

इतनी कोशिश भी करने में असमर्थ read more

1     3    0   

ख़ुश होने का मन नहीं करता, सोने से जब दिल नहीं read more

1     0    0   

मैं जी लेता हूँ सदियां पल-भर में जाने read more

1     2    1   

लोगों ने यूँ तो हर ज़ख्म की कीमत के बाज़ार सज़ा रखें read more

1     0    0   

ये तन भले ही बीमार हो पर मन न हो लड़ाई में हार हो पर दिल कायर न read more

1     5    0   

मंजिल तक पहुंचूंगा जरूर फौलादी इरादा है पहुंचना है गंतव्य पर घबराना read more

1     0    0   

सुबह की प्रार्थना, शाम की अज़ान है, हर एक पिता की ओ दूसरी भगवान read more

1     0    0   

मैं कहता हूं ख़्याल रख अपना इस बात को हमेशा टालती read more

1     0    0   

चाँद तारे भी तेरा पता पूछते हैं तेरे बिन वो भी खोये खोये रहते है जब तक तेरी read more

1     0    0