कोट्स New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए भाषा के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : hindi

एक सैनिक अपने कर्मफल के लिये, स्वर्ग के प्रवेश द्वार पर खड़ा था, मरणोपरांत अंतिम read more

2     16.1K    610    3

ये कविता के जन्म का शब्दश: वर्णन read more

1     23.0K    588    1

इन्द्र देव इस बार कुछ, ज्यादा ही नाराज़ लग रहे हैं, मुसीबत शायद देवलोक में है, जमीन read more

1     15.2K    559    4

India's biggest ever writing challenge for all college students across streams and geographies.

जाने क्यों लेकिन कभी-कभी, दिल बहुत मचलता है, अनजाने ही ज़िन्दगी की, किताब के पन्ने read more

1     16.1K    555    22

क्या हुआ, जो आज सुबह थोड़ी देर तक सो लिए, क्या हुआ, जो आज, सुबह की सैर पर नहीं read more

1     8.0K    554    135

आजकल एक अजीब, ख़ामोशी मुझे घेरे रहती है खुद की तरह ही, मुझे भी चुप रहने को कहती read more

1     8.4K    549    114

चिंता को तू कर दे टाटा, मन में अलख जगा ले, खुद-सा साथी नहीं मिलेगा, खुद से प्रीत लगा read more

2     14.7K    548    8

आईना देखता हूँ तो एक बूढ़ा नौजवान नज़र आता है वक़्त के थपेड़ों का मारा, कोई इंसान read more

1     15.3K    547    16

'कुत्ते की मालकिन, कभी आगे, और कभी पीछे दौडती है, गोद में हो, कभी कुत्ता चाटता है read more

1     14.5K    540    17

इन्सान का सबसे बड़ा रोग, क्या कहेंगे read more

1     15.7K    539    23

दूसरों के बनाये हुए नियमों से खुद को आजाद कीजिये कल वाले परिणामों के भय से, खुद को read more

1     8.7K    538    54

आधार आज भारतीय, नागरिक की पहचान read more

1     964    537    1498

'अगर फिसलने के डर से चलने में डरेंगे, तो तेरे द्वार तक कैसे पहुंचेंगे, 'योगी' जीवन read more

2     14.8K    536    27

यह कविता जीवन में आगे बढ़ने के लिये अथाग महेनत का महत्व समजाती है read more

2     14.0K    535    5

मृत्यु संपूर्ण और शाश्वत है । यह कविता बताती है कि जन्म की तरह ही मृत्यु का भी उत्सव read more

2     14.0K    534    6

'मैं खाने पीने का शौक़ीन, अदरक की तरह फैल गया, शरीर L से XXXL, और कमर का कमरा बन read more

1     14.5K    534    18

इन्सान हूँ मैं भी अपने काम की पहचान चाहता हूँ खुद से इश्क करता हूँ मैं भी एक मुकाम read more

1     8.0K    533    241

'ये ज़िन्दगी ख़ुशी और गम का किस्सा है, मुश्किलें आगे बढ़ने की प्रक्रिया का हिस्सा read more

1     13.8K    532    47

एक वक़्त था जब सुनते थे, अब सपने देखना बंद करो,अब कहा जाता है सपने, नहीं देखोगे तो read more

1     14.6K    530    11

India's biggest ever writing challenge for all college students across streams and geographies.

कल तक जिसे सम्पूर्ण समझा था आज पूर्ण रह गया है, आज जिसे सम्पूर्ण मान रहे है, वो कल read more

1     14.0K    527    62

बेवजह की चिंता छोड़कर, बुढ़ापे का मज़ा read more

1     14.2K    525    19

हमेशा सभी के प्रति आदर, दयालु और क्षमाशील बनो आखिर हमारा और आपका, साथ बस थोड़ी देर read more

1     14.0K    524    48

दूर क्यों तलाश उसकी, जो बिलकुल पास है, ख़ुशी तेरे पास खड़ी है, फिर भी तू निराश read more

1     14.7K    523    12

किसी चमत्कार का हिस्सा होना चाहता हूँ मैं, अविष्कार का हिस्सा बनना चाहता हूँ read more

1     7.2K    523    109

'आज लड़कियों में जीरो फिगर का ट्रेंड है, और लड़कों में सिक्स पेक एब्स का चलन है।' read more

1     14.9K    523    9

“योगी” सही ही कहा है, जहाँ बरगदों की भरमार हो वहां पौधे तो क्या, झाड़ी और घास भी read more

1     7.7K    522    110

प्रगति में हर देशवासी का योगदान स्वीकार read more

1     7.5K    521    210

'अस्पताल में लाख वर्जित हो, घर का खाना लाता है, यात्रा से ऐन वक़्त पहले गुड बाय read more

2     14.5K    520    49

हर घटना का कारण है, जीवन में जो भी हो रहा है, उसको उसका काम करने दो, वो आपको देख रहा read more

2     14.4K    515    14

मुझे नहीं लगता कि कभी कोई ऐसा आविष्कार हो पायेगा जो इतने उपयोगी, साड़ी के पल्लू read more

2     1.9K    515    369