कोट्स New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए भाषा के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : hindi

औकात मेरी क्या है कोई मुझे ना read more

1     3.9K    1.1K    60

एक सैनिक अपने कर्मफल के लिये, स्वर्ग के प्रवेश द्वार पर खड़ा था, मरणोपरांत अंतिम read more

2     16.6K    683    18

ये कविता के जन्म का शब्दश: वर्णन read more

1     23.8K    664    9

इन्द्र देव इस बार कुछ, ज्यादा ही नाराज़ लग रहे हैं, मुसीबत शायद देवलोक में है, जमीन read more

1     15.6K    639    24

जाने क्यों लेकिन कभी-कभी, दिल बहुत मचलता है, अनजाने ही ज़िन्दगी की, किताब के पन्ने read more

1     16.4K    629    49

चिंता को तू कर दे टाटा, मन में अलख जगा ले, खुद-सा साथी नहीं मिलेगा, खुद से प्रीत लगा read more

2     15.3K    628    25

क्या हुआ, जो आज सुबह थोड़ी देर तक सो लिए, क्या हुआ, जो आज, सुबह की सैर पर नहीं read more

1     8.2K    627    388

आईना देखता हूँ तो एक बूढ़ा नौजवान नज़र आता है वक़्त के थपेड़ों का मारा, कोई इंसान read more

1     15.6K    626    77

आजकल एक अजीब, ख़ामोशी मुझे घेरे रहती है खुद की तरह ही, मुझे भी चुप रहने को कहती read more

1     8.7K    624    389

इन्सान का सबसे बड़ा रोग, क्या कहेंगे read more

1     16.3K    619    78

'कुत्ते की मालकिन, कभी आगे, और कभी पीछे दौडती है, गोद में हो, कभी कुत्ता चाटता है read more

1     14.9K    615    79

दूसरों के बनाये हुए नियमों से खुद को आजाद कीजिये कल वाले परिणामों के भय से, खुद को read more

1     9.3K    614    174

यह कविता जीवन में आगे बढ़ने के लिये अथाग महेनत का महत्व समजाती है read more

2     14.4K    613    30

'अगर फिसलने के डर से चलने में डरेंगे, तो तेरे द्वार तक कैसे पहुंचेंगे, 'योगी' जीवन read more

2     15.0K    612    80

आधार आज भारतीय, नागरिक की पहचान read more

1     1.2K    610    3822

मृत्यु संपूर्ण और शाश्वत है । यह कविता बताती है कि जन्म की तरह ही मृत्यु का भी उत्सव read more

2     14.2K    609    31

इन्सान हूँ मैं भी अपने काम की पहचान चाहता हूँ खुद से इश्क करता हूँ मैं भी एक मुकाम read more

1     8.2K    609    390

एक वक़्त था जब सुनते थे, अब सपने देखना बंद करो,अब कहा जाता है सपने, नहीं देखोगे तो read more

1     15.0K    608    36

'मैं खाने पीने का शौक़ीन, अदरक की तरह फैल गया, शरीर L से XXXL, और कमर का कमरा बन read more

1     15.0K    608    81

'ये ज़िन्दगी ख़ुशी और गम का किस्सा है, मुश्किलें आगे बढ़ने की प्रक्रिया का हिस्सा read more

1     14.1K    606    82

दूर क्यों तलाश उसकी, जो बिलकुल पास है, ख़ुशी तेरे पास खड़ी है, फिर भी तू निराश read more

1     14.9K    603    37

बेवजह की चिंता छोड़कर, बुढ़ापे का मज़ा read more

1     14.3K    602    38

कल तक जिसे सम्पूर्ण समझा था आज पूर्ण रह गया है, आज जिसे सम्पूर्ण मान रहे है, वो कल read more

1     14.2K    601    83

'आज लड़कियों में जीरो फिगर का ट्रेंड है, और लड़कों में सिक्स पेक एब्स का चलन है।' read more

1     15.1K    598    32

हमेशा सभी के प्रति आदर, दयालु और क्षमाशील बनो आखिर हमारा और आपका, साथ बस थोड़ी देर read more

1     14.1K    598    69

किसी चमत्कार का हिस्सा होना चाहता हूँ मैं, अविष्कार का हिस्सा बनना चाहता हूँ read more

1     7.4K    596    175

“योगी” सही ही कहा है, जहाँ बरगदों की भरमार हो वहां पौधे तो क्या, झाड़ी और घास भी read more

1     7.8K    596    176

प्रगति में हर देशवासी का योगदान स्वीकार read more

1     7.6K    596    391

'अस्पताल में लाख वर्जित हो, घर का खाना लाता है, यात्रा से ऐन वक़्त पहले गुड बाय read more

2     14.7K    593    84

हर घटना का कारण है, जीवन में जो भी हो रहा है, उसको उसका काम करने दो, वो आपको देख रहा read more

2     14.6K    592    33