Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Sushil Sharma

  Literary Colonel

छपक छपैया

Children Stories

मम्मी फिर चिल्ला कर बोली कहाँ चली बच्चों की टोली। छत पर चले नहाने मैया छपक छपैया छपक छपैया।

1    0 0

एक पेट की और खेत की कविता

Inspirational Comedy

एक पेट की और खेत की कविता

1    6.3K 6

बुंदेली ग़ज़ल

Others

बुंदेली ग़ज़ल

1    6.7K 7

हेलेन केलर -बिंदु से विराट तक

Others

हेलेन केलर -बिंदु से विराट तक

1    6.8K 7

एक पेड़ का अंतिम वचन

Others

वृक्षों की कटाई और प्रदुषण से आगाह करती कविता

3    14.3K 2

दोहे

Others

विश्व तम्बाखू निषेध दिवस पर विशेष

1    6.6K 0

कुंडलियां (भारत -पाक संबंधों पर )

Others

वर्तमान में पाक की नापाक हरकतों पर और पाक के पैरोकारों पर आक्रोशित होती कविता।

1    6.9K 4

महाराणा प्रताप

Abstract

इस कविता में हल्दी घाटी युद्ध का एवम महाराणा प्रताप की वीरता का वर्णन है।

1    14.5K 5

स्कूल चलें हम

Others

सरकारी स्कूलों की महत्ता प्रतिपादित करती कविता

1    1.2K 9

शमा जलती रही

Others

प्रेम की विरह अभिव्यक्ति

1    6.9K 7

माँ और पिता में श्रेष्ठ कौन

Others

स्वर्ग,धर्म और तपस्यापिता के रुप हैं।तीर्थ, मोक्ष और ईश्वरमाता स्वरुप हैं।

1    13.5K 4