Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



यवधेश साँचीहर

नमस्कार । मां समान इस हिंदी भाषा को कुछ समर्पण अपनी कहानियों वाली कविताओ के माध्यम से करता हु। पसंद आए तो बस मुस्करा दिजिए ।

  Literary Colonel

रुष्ट कृष्ण

Others

हे कृष्ण! जब तू गहरी योग निद्रा में है तब तेरे बनाये इस विश्व का , इस प्रकृति का विध्वंस हो रहा है।

2    1 0

रुष्ट कृष्ण

Others

आकाश को कृष्ण से श्वेत कब तक तू रंगवायेगा। नहीं करेगा तो चिंता से ठगा सा रह जाएगा।। पेट की अग्...

1    25 1

देश रक्षा धर्म रक्षा

Action Inspirational

एक सुखी समय देने से पहले समय माङ्गता है प्रमाण। प्रश्न अब भी है वही है क्या तुम उठाओगे कृ...

1    156 4

सुश्री रामप्यारी गुर्जर

Action Inspirational Others

तुम बढ़ती रहो अब निरन्तरा ॥ ओ विशालिनी, ओ दयालिनी। ओ दुखभञ्जिनी, ओ मालिनी॥ इतनी तू महिमा मन्डित ...

1    272 8