Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Dr. Kusum Joshi

कितना मुश्किल है अपने बारे में लिखना,

  Literary Colonel

निजात

Drama

दया माया कहां चली गई तेरी.. मत भाग कौड़ी की माया के पीछे...प्राश्चित भी नही मिलेगा तुझे.

2    224 2

श्राप मुक्ति

Tragedy

"नैनी मैं तो निमित्त भर थी ,असल मे तेरे पीछे तो तेरे मां बाबा दोनो ही वरद हस्त लिये

2    445 2

प्रतीक्षा

Others

होलाष्टक के साथ ही पहाड़ों के गांव गांव चीर बंधी और फाग उठने लगे , घर घर से ढोल मंजीरा,ह

2    214 1

घुटन

Drama

और आंखों से बाहर आने को उतावले आंसूओं को गले से नीचे घुटक लेती।

2    71 3

वो जिन्दा है

Drama

एक सूकून महसूस करता। उऋण होने का भान देर तक बना रहता।

2    57 2

किनारे कभी मिलते नही

Tragedy

डा.कुसुम जोशी गाजियाबाद [उत्तर प्रदेश ...

1    191 1

वो आयेगा

Tragedy

तीन साल पहले हमारा बेटा कॉलेज ट्रिप में यहां आया था..पर आज तक नहीं लौटा..तब से हर साल न

2    271 1

अंधकार

Drama

मुस्कान के साथ सर हिलाया, आदिल के चेहरे में भी मुस्कुराहट खिल उठी।

2    63 3

कुछ तो कहूं

Others

वासु उनके पास जाकर कान में बुदबुदाया "अंकल मुझे तो जवानी का जोश चढ़ा रहता है, पर आप इस ब

1    412 1

रोस्टेट बादाम

Drama

कभी किताब छूते नही देखा तुझे

2    76 4

मैं ऐसा ही हूं

Others

"मांजी जब शिवाशं सात साल का था मैं तब से कह रही थी कि अगर तुम्हें दूसरा बेबी लाना है तो

2    222 2

अतीत की परछाईयां

Others

कैलाश ने मुस्कुराते हुये कहा "पड़ता है, पर मैं हमेशा कहता था, कि इतिहास स्वयं को दोहराता

1    350 2

मन न भये दस बीस

Drama

अकेले उसे बुदबुदाते देख उसकी बूड़ी ईजा कहती .."

1    53 2

कुछ कहना था

Drama

अब कुछ नही अब तो बस नीबू पानी विदाउट शुगर साल्ट"साकेत उदास हंसी हंसते बोला।

3    188 1

सकीना बी

Tragedy

अपनी कुढ़न भरे स्वर में बोली- " अभी भी ना हुई तसल्ली तो अबके मुझे 'तलाक' ही दे दो। और ख

2    56 2

ठुल कुड़ी (बड़ा घर)

Drama

एक दिन वो छिनाल सब धन दौलत लेकर नौकर के साथ चम्पत हो गई, दो-तीन दिन बाद ठुलकुड़ी से बास आने लगी गांव...

5    223 43

अंतस से

Drama

मैं शब्द विहीन सी सांत्वना के शब्द तलाश रही थी..।

9    434 37