Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Rita Chauhan

  Literary Colonel

मैं

Drama Others

दर्प के दंश से ग्रसित वह ‘मैं’ तिनकों की तरह बिखरा पड़ा था, सृष्टि की रचयिता उस शक्ति के सामने।

2    169 27

'मैं' !!

Others

वहां सबको अपने अस्तित्व का था देना परिचय, नेत्र उसके ढूंढने लगे अपनी पृथ्वी का चिन्ह, न मिला उसे...

2    484 44

कितने अमीर कितने गरीब

Classics Drama

एक दूसरे का साथ थोड़ा कम ही सही पर एक दूसरे को पछाड़ने की होड़ है यहाँ।

2    13.9K 24

पंख

Others

आप दोनों को मेरे पंख सदैव सदैव थामे रहेंगे , ये वचन है मेरा आपसे , हर ऊँची उड़ान में आप सदैव मेरे स...

5    14.3K 33