Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Veeru Sonker

  Literary Colonel

हमारे समय की कविता

Abstract

भयानक स्मृतियों के जंगल से बच-बचा कर उन्होंने, एक बीच की राह निकाली थी सात्वनाओं की एक नदी जहाँ उन्ह...

1    6.8K 5

हमारे समय की कविता

Fantasy

लिक से हैट कर जब कोई चाहें कि सब उसके सोचने भर से हो ,रात -दिन भी और मौसम का बदलना भी ,और इसके लिए...

1    13.4K 4

हमारे समय की कविता

Abstract

वह क्रोध में थे पर शांत थे वह असहमत थे, पर समझाए जाने पर सहमत हो जाते थे!

1    6.7K 4

हमारे समय की कविता

Fantasy Inspirational Tragedy

शहर जब मछली की चिकनी पीठ में बदल जाए तब ज़िन्दगी को वहां टिके रहने के लिए दुगनी मश्कत करनी होती है

1    13.6K 3

हमारे समय की कविता

Inspirational Tragedy

जब अपने ही होने को बहुमत के स्वर में स्वर मिला वो खुद को नकारने लगे तब ?

1    13.3K 8